English
Urdu

fracture in the penis

अगर आप ऐसा सोचते हैं कि जब पेनिस में हड्डी ही नहीं होती है, तो इसमें फ्रैक्चर कैसे हो सकता है, तो आप गलत सोचते हैं। आपको बता दें कि पेनिस में भी फ्रैक्चर हो सकता है। हालांकि यह नियमित फ्रैक्चर से अलग है।  डॉक्टर के अनुसार, पेनिस फ्रैक्चर का मतलब पीनाइल शाफ्ट के सख्त झिल्लीदार अस्तर ( membranous lining) का टूटना है। यह इरेक्शन के दौरान ब्लड फ्लो बढ़ने से सख्त हो जाती है। आपको बता दें कि फ्रैक्चर पेनिस के शाफ्ट में कहीं भी हो सकता है। यह एक सीरियस इंजरी है, जो व्यक्ति की सेक्स परफॉरमेंस को प्रभावित कर सकती है और बहुत दर्द हो सकता है।

पेनिस फ्रैक्चर के सामान्य कारण क्या हैं?

वुमन ऑन टॉप- डॉक्टर मेहता के अनुसार, यह पोजीशन पुरुषों के लिए खतरनाक होती है। कोई भी ऐसी पोजीशन जिसमें पेनिस को अननैचुरल तरीके से बेंड करना पड़ता है उससे फ्रैक्चर हो सकता है। इस पोजीशन में महिला पार्टनर आपके ऊपर होती है और उसका सारा वजन आपके पेनिस वाले हिस्से पर होता है, यहां जरा सी भी चूक आपके लिए मुसीबत बन सकती है।

डॉगी स्टाइल पोजीशन- अध्ययन के अनुसार, यह पोजीशन रिस्की होती है। गलत तरीके से जबरदस्ती पेनिट्रेशन करने से पेनिस के टूटने का खतरा होता है।

ब्लंट इंजरी- डॉक्टर के अनुसार, पेनिस के लिए ब्लंट इनजरी बनने वाली कोई भी एक्टिविटी इसके टूटने का कारण बन सकती है। इसमें उत्तेजना के साथ हस्तमैथुन भी शामिल है। पुरुष बिना किसी लुब्रिकेंशन के इस्तेमाल किये बिना पेनिस को जोर से पकड़ते हैं जिससे फ्रैक्चर हो सकता है।

तनावपूर्ण स्थिति में सेक्स करना- द जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, तनावपूर्ण स्थिति में सेक्स करने से आपके पेनिस में चोट लग सकती है।

उम्र बढ़ना- इरेक्टाइल प्रॉब्लम के अलावा उम्र बढ़ना भी पेनिस फ्रैक्चर को बढ़ा सकता है। इसलिए इस उम्र में सेक्स करना खतरनाक साबित हो सकता है। उम्र बढ़ने के साथ कंनेक्टिव टिश्यू कम बनते हैं।

ब्लीडिंग और कंनेक्टिव टिश्यू- डॉक्टर मेहता के अनुसार, पुरुषों में ब्लीडिंग डिसऑर्डर से भी इंजरी का खतरा बढ़ सकता है और कुछ दुर्लभ कंनेक्टिव टिश्यू डिजीज से भी पेनिस फ्रैक्चर का कारण बन सकती हैं।

पेनिस फ्रैक्चर के सामान्य लक्षण क्या हैं?

  • पेनिस अगर टूटता है तो उस दौरान अचानक चटकने की आवाज आती है और दर्द के साथ इरेक्शन खत्म हो जाता है।
  • इसमें चोट और जख्म के मुताबिक सामान्य या जरूरत से ज्यादा दर्द हो सकता है।
  • पेनिस में सामान्य से ज्यादा झुकाव, सूजन और छूने में लिंग सख्त लगता है
  • पेशाब करने में दर्द होता है और पेशाब के साथ खून भी आता है।