English
Urdu

conclusion of tonsillitis

टॉन्सिल मुंह के अन्दर जीभ के निचले भाग जबडे के साथ नांक छिद्र के ठीक नीचे मौजूद होते हैं। टॉन्सिल गहरे लाल पीले हल्के सफेद मिक्स रंग के होते हैं। टॉन्सिल एक तरह से हानिकारक वायरल बैक्टीरिया को शरीर में प्रवेश से रोकने का काम करते हैं। परन्तु कई बार टॉन्सिल खुद संक्रमित हो जाते हैं। टॉन्सिल मुंह में आने वाले घातक बैक्टीरिया, वायरस (Bacteria, Virus) से संक्रमण होने पर ही दर्द तकलीफ देते हैं। टॉन्सिल बढ़ने पर गले में सूजन, दर्द, बुखार और टॉन्सिल बाहर और अन्दर की तरफ फैल जाते हैं। जिससे मुंह से बदबू, सांस लेने में परेशानी, खाने में परेशानी, इत्यादि समस्यायें उत्पन्न हो जाती हैं। टॉन्सिल को जल्दी बैक्टीरिया-वायरस से मुक्त करना जरूरी है। ज्यादा देर तक टॉन्सिल संक्रमित होने से Tonsilloliths Stone समस्या गंभीर हो सकती है।

टॉन्सिल के लक्षण

गले में खर्राश होना
जबड़ो के निचले हिस्सों में सूजन आना
गले के दर्द होना
सांसों में बदबू आना
कानों के निचले हिस्से में सूजन दर्द
दर्द से बुखार आना
खाना खाने में गले में दर्द
टॉन्सिल से सफेद बदबूदार पदार्थ निकला
खाना स्वाद नहीं लगना और जीभ का टेस्ट बदलना

टॉन्सिल बढ़ने पर परहेज सावधानियां

टॉन्सिल बढ़ने पर दही सेवन नहीं करें।
तली, भुनी, मसालेदार चीजों के सेवन से बचें।
ठंडा पानी, सोड़ा पेय, आईसक्रीम इत्यादि ठंडी चीजों से परहेज करें।
अण्डा, मीट, मछली सभी तरह से नॉनबेज खाने से बचें। घर पर बना सात्विक भोजन खायें।
धूम्रपान, शराब, गुटका, तम्बाकू, नशीली चीजें टॉन्सिल को ज्यादा घातक बना देती है। नशीली चीजों के सेवन ना करें।
टॉफी, चॉकलेट, फास्टफूड, जंकफूड से परहेज करें।
बासी और ठंडा भोजन ना खायें।

टॉन्सिल का आर्युवेदिक घरेलू उपचार

नमक पानी गर्रारा (Gargling, Lukewarm Water)
टॉन्सिल होने पर नमक पानी गर्रारा / Gargling फायदेमंद है। नमक पानी गर्रारा मंह में जमा भोजन म्यूकस अंश टॉन्सिल से हटाता है। और टॉन्सिल से होने वाली बदुबू से छुटकारा पाने में अच्छा तरीका है।

हल्दी दूध मिश्रण (Milk, Turmeric, Pepper Mint)
टॉन्सिल बढ़ने से दर्द, सूजन, बुखार में 1 गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी और आधा चम्मच गोलकी पाउडर मिलाकर पीना फायदेमंद है।

शहद नींबू (Honey Lemon )
टॉन्सिल समस्या ठीक करने में शहद, नींबू, नमक मिश्रण फायदेमंद है। 1 गिलास गर्म पानी में 2 चम्मच शहद, आधा नींबू, चुटकी भर काला नमक मिलाकर कर पीने से टॉन्सिल समस्या से जल्दी आराम मिलता है।

करेला रस (Bitter Gourd Juice)
टॉन्सिल विकार / Tonsils Disease को तेजी से घटाने और ठीक करने में करेला कच्चा खाना खाना और करेला रस सेवन फायेमंद है। करेला टॉन्सिल समस्या को तेजी से ठीक करने में सहायक है।

गाजर और चुकन्दर रस (Beetroot and Carrot)
टॉन्सिल बढ़ने पर आधा गिलास गाजर / Carrot रस और आधा गिलास चुकन्दर / Beetroot का रस मिलाकर सेवन करना फायदेमंद है। यह अचूक मिश्रण टॉन्सिल को वायरल संक्रमण से जल्दी छुटकारा दिलाने में सहायक है।

सेब सिरका (Apple Vinegar)
टॉन्सिल को घटाने में सेब सिरका फायदेमंद है। 1 गिलास गर्म पानी में 2 चम्मच सेब सिरका घोलकर पीने से टॉन्सिल जल्दी ठीक करने में सहायक है।

सात्विक ताजा पौष्टिक भोजन (Healthy Fresh Foods)
घर पर बना सात्विक भोजन खायें। हरी सब्जियां, सलाद, संतुलित पौष्टिक / Healthy Foods खाना खायें। खाने के तुरन्त बाद गुनगुने पानी से गर्रारा करें।

पानी पीना (Benefits of Drinking Water)
जब भी प्यास लगे गुनगुना पानी पीयें। गुनगुना पानी मुंह में कैविटी / Mouth Cavity नहीं जमने देता और साथ ही टॉन्सिल बढ़ने से रोकने में सहायक है। टॉन्सिल बढ़ने पर पानी लार ग्रन्थि को सुचार बनाने में सक्षम है।

कच्ची लहसुन खाना (Row Garlic)
Garlic / लहसुन एंटी बैक्टीरियल का रिच श्रोत है। टॉन्सिल को बैक्टीरिया से छुटकारा दिलाने में सहायक है। 2-3 लहसुन कलियां चबाकर खाना और खाने में लहसुन का इस्तेमाल करने से टॉन्सिल समस्या जल्दी दूर होती है।