• 22
  • Apr
  • 0
Author

सेक्स से क्यों बचती हैं महिलाएं, सेक्स अरुचि के कारण

अक्सर बहुत सी महिलाओं में तनाव और हार्मोनल असंतुलन के कारण सेक्स के प्रति कमी आने लगती है। इससे केवल महिला ही नहीं बल्कि रिश्ते भी प्रभावित होने लगते हैं। इतना ही नहीं इसके लिए वे खुद को ज़िम्मेदार मानने लगती हैं। पिछले कुछ वर्षों से महिलाओं में यौन इच्छा की कमी की समस्याएं बढ़ी हैं। ऐसे में महिला न तो खुद संतुष्ट हो पाती है और न ही अपने पार्टनर को खुश कर पाती है और चिड़चिड़ी रहने लगती है। ज्यादातर मामलों में पत्नी की सेक्स में रुचि नहीं होती है। जिस कारण वह टालमटोल करती हैं।
महिलाओं की सेक्स की इच्छा पुरुषों से कम होती है, यह एक गलतफहमी है जिसे दूर किया जाना जरूरी है। महिलाओं की कामेच्छा कम या न होने के लिए अक्सर पुरुष ही जिम्मेदार होते हैं। मेरे पास बहुत से मरीज अपनी पत्नी को लेकर आते हैं और कहते हैं कि इनका कुछ कीजिए। ये बहुत ठंडी हैं। जब मैं विस्तार से जांच करता हूं तो पता चलता है कि पत्नी को उत्तेजित करने के लिए पति ऐसी हरकतें करते हैं जो पत्नी को बिल्कुल पसंद नहीं आतीं। सहवास से पहले जितना वक्त फोर-प्ले में गुजारना चाहिए, वह नहीं गुजारते और पत्नी के उत्तेजित होने से पहले ही सहवास की कोशिश करने लगते हैं। वे शायद यह नहीं जानते कि जब तक पत्नी की कामेच्छा सही तरीके से जाग्रत नहीं होगी, तब तक उसका प्राइवेट पार्ट सहवास के लिए तैयार नहीं होगा। यौन इच्छा या सेक्स ड्राइव की कमी अक्सर कामेच्छा के अभाव के रूप में वर्णित की जाती है और कई महिलाएं विभिन्न प्रकार के लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं। यौन उत्तेजना की कमी का परिणाम योनि में लुब्रिकेशन की कमी, संबंधों में या ख़राब स्वास्थ्य के रूप में हो सकती है।
ऐसे में अगर कोई सहवास करने की कोशिश करेगा तो स्त्री को बेहद दर्द महसूस होगा और उसकी दिलचस्पी काम क्रिया में कम हो जाएगी। दोबारा जब भी पति सहवास की कोशिश करेगा, तो स्वाभाविक है कि पत्नी टालमटोल की कोशिश करेगी।
जब यही बात बार-बार होगी और पुरुष अपनी पत्नी को नींद की गोली की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा तो पत्नी सहवास में कैसे दिलचस्पी दिखा सकती है? उसके ठंडेपन का कारण ज्यादातर पति खुद ही होता है। ऐसे मामलों में पति को पत्नी से पूछना चाहिए कि उसकी पसंद और नापसंद क्या हैं? इसके बाद ही आगे बढ़ना चाहिए। असल में तो सहवास का पर्यायवाची है चार अक्षरों का शब्द बातचीत। अगर आपको एक बार पीने पर चाय अच्छी लगती है तो दोबारा पीने का भी मन करेगा, पर अगर बेस्वाद लगी तो आप दोबारा पीने से इनकार कर देंगे। यही बात सहवास के मामले में भी लागू होती है। खासकर भारतीय पुरुषों को यह समझने की जरूरत है कि जो मजा या लुत्फ सफर में है, वह मंजिल में नहीं है।
यौन अक्षमता की भावना कई महिलाओं को बुरी तरह प्रभावित कर सकती है। इससे महिला को एक व्यक्ति और पार्टनर के रूप में उसकी भावना को ठेस पहुंच सकती है। ऐसे में महिला का गुस्सा होना स्वभाविक है। ऐसे में बहुत सी महिलाएं अपने पार्टनर से झगड़ा तक कर लेती हैं। हालांकि कुछ महिलाओं को भावनात्मक या शारीरिक रूप से ट्रीट किया जा सकता है, इससे पता चल सकता है कि सेक्स के प्रति उसकी रूचि कम होने के पीछे आखिर क्या वजह हो सकती है। अगर वो कुछ बात आपसे शेयर करती है तो, इससे आपको काफी मदद मिल सकती है, जिससे आप उसकी भी मदद कर सकते हैं।

Avatar
admin

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.